Sat, 25 Oct,2014 09:44 AM
Google Search
नमस्कार मित्रों ************ जय गुरुदेव जय महाकाल अजय ठाकुर ,आगरा आज की तारीख मैं सभी लो मेरिट वाले भाई बहन परेशान है उधर नए विज्ञापन समर्थक तो और ज्यादा परेशान है। अब सवाल है सुखी कोण हैं। आखिर आत्म चिन्तन का सवाल है की आप कितना चिन्तन मनन और विश्लेषण करते हैं। कितने तथ्यों को गहराई से समझते हैं ।जब मैं सभी को बता रहा था की 115 से नीचे सामन्य की मेरिट नहीं आएगी। तब सभी लोग अपना अपना राग अलाप रहे थे कोई कुछ कह रहा था कोई सबूत दे रहा था ।।वगेराह वगेराह लेकिन असली समस्या पर चिंतन कभी किया ही नहीं गया। दूसरी बात आप सभी मित्र गण जिस प्रकार अपना बहुमूल्य समय फेसबुक पर कुतर्क बेतुके दावे और आपसी लड़ाई मैं और आपसी टांग खीचने मैं करते हैं। उसमें से अगर दस प्रतिशत भी सभी के हित मैं चिंतन मनन किया जाता तो सभी को लाभ होता अपने सभी भाई बहन खुश होते ।मेरी बात केवल कुछ मानशिक मंद व्यक्तियों को अखर सकती है जिसकी वजह से उनकी दूकान मैं बंद कर चूका हूँ। हमारी टीम सभी के लिए लगातार बिना हो हल्ला किये काम कर रही है।। हम चाहते है सभी को हक़ मिलना चाहिए।। इसी क्रम मैं हमारी टीम काफी समय से मेहनत कर रही थी की हम दोनों ऐड की बात आखिर क्यों करते हैं ?? आखिर किस सबूत पर हम लड़ने की बात करते हैं ? हम जीतेंगे भी या नहीं? इस बात पर मनन और चिंतन होना चाहिए। अपना बहुमूल्य सुझाव और विचार सभी के हित मैं प्रयोग मैं लाये हमारा उद्देश्य सभी का हित है । और इस काम को हम पूरी मेहनत से रात दिन अपने काम मैं लगे हैं।। अब प्रश्न आता है अब तक आपने डेट क्यों नहीं लगवाई ? तो उसका उत्तर है जो येसा बोलते हैं की डेट नहीं लगवाई क्या उनके पिता जी ने हमारी याचिका को कौर्ट मैं अपनी खाला के पैसे से लगाया था या उन्होंने डेट 25 मार्च अपने पैसे से लगवाई थी या हमारी याचिका को कनेक्ट उन्होंने ही कराया था।। अरे मित्रों तनिक बुद्दि विवेक का परिचय दीजिये और विचार करिए की जो व्यक्ति गुड पार्ट बेड पार्ट और एन सी टी इ के नाम पर दो दो बार और 25 मार्च से पहले तीन चार तारीख ले कर क्या उखाड़ लाया अब ये उस कहावत के चक्कर मौन घूम रहे हैं जो हमारे यहाँ प्रचलन मैं हैं "राण के पायन सुहागिन लागी राण बोली हेजा बहना मोजेसी" मतलब ये हैं की खराब मानशिकता और दुष्ट व्यक्ति हार कर ध्रतराष्ट्र की तरह व्यवहार करता है। और कहता है ये भी हार कर मेरी जेसी हालत मैं आ जाए तो आप सभी मित्रों को बता दूँ मैं आवेश मैं आकर फैसले नहीं लेता कियोंकि मुझे आपके भविष्य की चिंता है ।एक बार गलत आवेश मैं आकर अगर डेट लगवा दूँ आधे अधूरी तैयारी के साथ जेसा की मानशिक मंद व्यक्ति श्रेय लेने और केवल हमको नीचा दिखाने के चक्कर मैं डेट लिए और क्या हाल हुआ आप सब जानते हैं।।। हमारी याचिका slp civil 11671/2014 है जिसमें हमने दोनों ऐड पर भर्ती की मांग की है हम चाहते हैं सभी बीएड टेट पासा भाई वहन का भला हो।। हम लगातार इसको सफल बनाने के लिए प्रयाश मैं हैं की सभी का हित हो। आप सभी भाई वहनो से निवेदन है ।आप व्यर्थ की चिंता छोड़ कर हमारे इस विषय पर चिंतन करें। मैं अपनी पोस्ट मैं उस सबूत को पेश कर रहा हूँ जो हमको बहुत मेहनत से मिला है। जो दोनों विज्ञापन बहाल होने का आधार है लेकिन किसी और की याचिका मैं काम नहीं आएगा कियोंकि उन्होंने अपनी प्रार्थना ही गलत की है कोर्ट से। ये सबूत के केवल जनहित याचिका टीम ने हासिल किया है और उसी की याचिका मैं काम आएगा और जल्द सभी को खुशियाँ मिलेगी हमको आप जेसे चिंतन शील भाई वहनो का साथ चाहिए जो अपना दस प्रतिशत समय इस याचिका के चिंतन मैं लगाए और सबूत इक्कठा कराने मैं मदद करें और इस याचिका को सभी बीएड टेट पास भाई बहन तक पहुंचाने मैं मदद करें ।।।हमारी टीम का वादा है आप सभी को नोकरी मिलेगी ।। रोजगार पाना आपका हक़ है।। कोई भी कानून लोक तंत्र मैं स्थाई नहीं होता आपकी ताकत के आगे सब मिटा दिया जाता है बदल दिया जाता है।। आप उस बात की चिंता बिलकुल न करे की ncte ने 31 मार्च 2014 की लास्ट छुट दी थी।। आपको पता होगा उतराखंड मैं 2016 कर दिया गया है।। आप सभी से निवेदन करता हूँ इस याचिका को चिंतन का विषय बनाये और सबूत इक्कठा कराएं हमको सुझाव दें।। सभी का हित सर्वोपरि है।। इन्कलाब बुलंद हो जय महाकाल अटेच साबूत को अवस्य पढे धन्यवाद।।
! WELCOME GUEST !
Welcome :Pathak Sir On Uptet
user-name:

Password:

Remember me

Uptet Breaking News And Govt. Jobs {HR 1 Hour Me News Update} By Zishan and Ajay Thakur
! ACTIVATION FEES TYPE !
उत्तर प्रदेश टेट कमेटी सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त / साईट पर रजिस्ट्रेशन करने के बाद एडमिन कॉल करो ! 9634633585
News Paper Cutting
Uptet Breaking News.
शु-प्रभात- * शिक्षक भर्ती काउंसलिंग में नहीं जमा होंगे मूल प्रमाण पत्र.. * 60 जिलों का ब्यौरा एनआईसी को.... लखनऊ। प्राइमरी स्कूलों में 72,825 प्रशिक्षु शिक्षक तथा उच्च प्राइमरी स्कूलों में 29,334 सहायक अध्यापकों की भर्ती के लिए काउंसलिंग के दौरान अभ्यर्थियों को अब मूल प्रमाण पत्र जमा नहीं करने होंगे। अभ्यर्थियों को काउंसलिंग के दौरान इसे दिखाना तो जरूर होगा, लेकिन राजपत्रित अधिकारी से सत्यापित फोटोकॉपी ही जमा की जाएगी। सचिव बेसिक शिक्षा एचएल गुप्ता ने गुरुवार को इस आशय का शासनादेश जारी कर दिया है। बेसिक शिक्षा विभाग ने यह शासनादेश हाईकोर्ट के आदेश पर जारी किया है। बेसिक शिक्षा विभाग ने प्राइमरी और उच्च प्राइमरी स्कूलों में भर्ती के लिए बीएड पास अभ्यर्थियों से आवेदन मांगे थे। कई अभ्यर्थियों ने प्राइमरी तथा उच्च प्राइमरी दोनों के लिए आवेदन कर रखा है या फिर कई-कई जिलों में आवेदन कर रखा है। मूल प्रमाण पत्र जमा करा लिए जाने से ऐसे अभ्यर्थी केवल एक ही जिले में काउंसलिंग करा पा रहे थे। कुछ अभ्यर्थियों ने हाईकोर्ट से अनुरोध किया था कि काउंसलिंग के दौरान मूल प्रमाण पत्र जमा करने की अनिवार्यता समाप्त की जाए। हाईकोर्ट ने अभ्यर्थियों के पक्ष में फैसला दिया। सचिव बेसिक शिक्षा ने इसके आधार पर शासनादेश जारी करते हुए राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (एससीईआरटी) के निदेशक को निर्देश दिया है कि काउंसलिंग के दौरान मूल प्रमाण पत्र न जमा कराए जाएं। नियुक्ति पत्र में उल्लेख किया जाए कि कार्यभार ग्रहण करते समय चयनितों को मूल प्रमाण पत्र अनिवार्य रूप से प्रस्तुत करना होगा जिससे छायाप्रति का उससे मिलान किया जा सके। 60 जिलों का ब्यौरा एनआईसी को प्राइमरी स्कूलों में 72,825 प्रशिक्षु शिक्षकों की भर्ती के लिए दूसरे चरण की काउंसलिंग के बाद पात्र पाए गए अभ्यर्थियों का ब्यौरा 60 जिलों ने एससीईआरटी को भेज दिया है। एससीईआरटी ने इस ब्यौरे को नेशनल इन्फॉर्मेटिक सेंटर को दे दिया है। आगरा, औरैया, आजमगढ़, बदायूं, फीरोजाबाद, हरदोई, कुशीनगर, सहारनपुर, संभल, शामली, श्रावस्ती, सीतापुर, सिद्धार्थनगर व उन्नाव समेत 15 जिलों को शुक्रवार दोपहर 12 बजे तक अनिवार्य रूप से ब्यौरा भेजने का निर्देश दिया गया है।
प्रमाण-पत्र सत्यापन में शिक्षकों का अटका वेतन Publish Date:Wed, 15 Oct 2014 01:12 AM (IST) | Updated Date:Wed, 15 Oct 2014 01:12 AM (IST) फर्रुखाबाद, जागरण संवाददाता : बीटीसी-2010 में प्रशिक्षण प्राप्त 43 प्राथमिक शिक्षकों की नियुक्ति अगस्त माह में हुई थी। शिक्षकों का वेतन शैक्षिक प्रमाण पत्र के सत्यापन पेंच में अभी तक फंसा है। प्राथमिक विद्यालयों में बीटीसी शिक्षकों के सौ पदों में से 43 शिक्षकों का चयन अगस्त में हुआ था। इन्हें परिषदीय विद्यालयों में तैनाती दे दी गयी। संबंधित माध्यमिक शिक्षा बोर्ड व विश्वविद्यालय से प्रमाण पत्रों का सत्यापन होने के बाद ही वेतन लगेगा। सत्यापन के लिए प्रमाण पत्रों को संबंधित बोर्ड में भेजे जाने के लिए अभ्यर्थी डायट में जुगाड़ फांस रहे हैं। सत्यापन आदेश हैंड टू हैंड ले जाने के लिए भी जोर आजमाइश है। पैसे के खेल की भी चर्चा है। दूसरी ओर जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी योगराज ¨सह ने बताया कि प्रमाण पत्र सत्यापन कार्रवाई से डायट का कोई वास्ता नहीं है। बीएसए कार्यालय द्वारा सत्यापन मंगाए जाने की कार्रवाई कर दी गयी
: सुप्रभात मित्रों। ************* जय गुरुदेव जय महाकाल -------------------- अजय ठाकुर ,आगरा **************** आज कल फेसबुक पर जिस तरीके से कोह्लाहल और त्राहिमाम त्राहिमाम मची है उसके कारणों के विषय मैं चर्चा कर लूँ।।। सर्वप्रथम स्वघोषित माननीय नेता जी के विषय मैं चर्चा कर लूँ ।। इन महोदय ने एन सी टी ई को पार्टी बनाने के नाम पर इतना धन उगाई की की उससे उतशाहित होकर न आज तक रिट फाइल की और न आगे कुछ दिनों तक करने का विचार है। कियोंकि महोदय को आस और विशवास है की गरीब और शोषित वर्ग जब जब चिल्लायेगा उसको NCTE की रिट का भूत दिखा कर शांत कर दिया जाएगा मानो इन्होने कितना बड़ा तीर मार दिया।।। इस विषय पर ज्यादा जानकारी आपको अगली पोस्ट मैं दूंगा उससे पहले आपको एक रिट के विषय मैं और स्मरण करा दूँ।। वो रिट है गुड पार्ट और बेड पार्ट वाली उस रिट का उद्देश्य क्या था ? आज तक न किसी को बताया गया न ही उसका उद्देश्य स्पस्ट किया गया। न ये बताया की उसका क्या हश्र हुआ किस दुर्गति मैं हैं इस बात का कोई भी अवशेष नहीं बचा है।।। अब यक्ष प्रश्न ये है की जब उस रिट का कोई महत्व नहीं था न उस पर कोई आगे कार्यवाही करनी थी न उसको आगे बढ़ाना था। तो उस रिट के नाम पर गरीब और शोषित वर्ग के गरीब बीएड टेट पास अकेडमिक व्यक्तियों के खून पसीने की कमाई का धन उन काले कोट वाले कसाइयों को क्यों जान बुझकर खिलाया गया ।। क्या लाखो रूपये इनकी मेहनत की कमाई थी ।अगर नहीं तो हर उस बीएड टेट पास अकेडमिक योद्धा को जबाब दिया जाए जिसके लिए ये चन्दा वसूली अभियान चलाया गया था।। जिस वजह से फेसबुक पर लम्बी लम्बी गप्पें हांकी गई।।। आज हर बीएड टेट पास अकेडमिक व्यक्ति दुखी है उसका खून पसीने से कमाया गया धन केवल बंदर बाँट कर लिया जाता है।।। इस बात का उत्तर मिल जाना चाहिए की क्या गुड पार्ट बेड पार्ट पर जो कोहराम मचाया गया था ।वो सही था लाखो बर्बाद किया गया वो सही था।। जब उस रिट पर कुछ करना नहीं था तो क्यों ढोंगी बिल्ला की तरह कार्य किया गया ।।पूरे उत्तर प्रदेश के गरीब भाई वहनो को मूर्ख बनाया गया।। अब आते हैं दुसरे खेमे मैं लाखो रूपये काले कोट वालो को खिला देने के बाद भी निर्णय न करा सके और रुपयों का बंदरबांट किया जाता रहा और कौर्ट मैं डेट का खेल चलता रहा यहाँ तक कहूँ जब तीन मार्च 2014 को अग्रिम तारीख 25 मार्च लगी तो फेसबुक की दुनिया के माहाग्यानी पंडित लोग बढे बढे योद्धा कहते फिर रहे थे और घडियाली आंशु बहा रहे थे की अब ये भर्ती नहीं होगी अब तो मर जाने का सवाल है मर ही जायेंगे अब बचने का सवाल ही नहीं हैं।। मेरी बात मैं किंचित भी एक भी शब्द गलत मिलता है तो पहले इन महारथियों और महाज्ञानी फेसबुक पंडो का इतिहास और भूगोल पता कर लीजिये इन के ग्रुप मैं जाकर तीन मार्च से पच्चीस मार्च 2014 तक की पोस्ट ध्यान से पढ़िए।।। तब मुझे बता देना वहीँ हमारी टीम शांत चित्त थी और अपने काम पर ध्यान दे रही थी बिल फेसबुक पर हो हल्ला मचाने से बचते हुए।। हमने निर्णय के दिन ही सुबह बता दिया था आज निर्णय आना हैं और लगातार हमने अपने सभी पोस्ट मैं कहा भी था की हमारी याचिका जिस दिन को जिस दिन कनेक्ट करा दिया जाएगा उसी दिवस निर्णय आएगा।। आज ये बात करने का उद्देश्य ये है की आज जिन महानुभावों स्वघोषित नेता गणों पर आप इतना भरोषा करते हैं उनकी कार्यप्रणाली की झलक पेश है।। आप बुद्धि का प्रयोग करें और मनन करें।।। जब सिक्षा सत्रुओं को रोकने के लिए हमने कार्य प्रगति पर आगे बढाया सभी कागज एकत्रित किये सभी आव्स्यक्ताएं पूर्ण कर ली गई। तभी एक महानुभाव प्रकट हुए जिन्होंने बी टी सी के साथ मिलकर रिट लागाने के नाम पर बीएड टेट पास मित्रों से और राजेश पांडे जी की रिट को रिओपेन कराने के नाम पर जो चन्दा वसूली अभियान चलाया ।। जिससे समय और पेसे का गलत जगह प्रयोग किया गया। उसकी बानगी बता दूँ ।।आप टेट पास मित्रों के चंदे से सिक्षा सत्रुओं को रोकने जे नाम पर जो चन्दा वसूला राजेश पांडे जी की रिट के नाम पर हुई वसूली का प्रयोग गलत तरीके से और मनवाने तरीके से प्रयोग किया गया।। अब आप सोच रहे हैं केसे तो बता दूँ। की जब भर्ती अपने हिशाब से हो रही है। तो इन महाशय ने आपके मेहनत के पेसे से कंटेम्प किया गया उसका हश्र क्या हुआ कल आप देख चुके हैं।। मतलब पेसे की बर्बादी।।। ये नेता लोग कोई हल चला कर पैसा नहीं लगा रहे हैं केस मैं ये धन आपकी खून पसीने की कमाई का है। अभी तो नए नए प्रोपगंडे तैयार किया जा रहे हैं दो चार दिन मै कानून की धाराओं का पलीता लगा कर मुल्लमा चड़ा कर पेश किया जाएगा तैयार रहे।। जय महाकाल निर्णय आपका नोकरी चाहिए या बे मतलब की चन्दा चुराने के तरीके के साथ इजाद की गई तकनीक???? whats app par juden 9456828482
! FACEBOOK CONTACT/LIKE Us !
AGAR KISI NE BHI YAHA COMMENT BOX ME GALAT SHABD SHARE KIYA TO ME USKI (IP ADDRESS) police ko de dunga aur blog me koi bhi galat cheez hai to hume inform karen +919634633585
NEWS BOX ME YAHA APNE BAAT YA NEWS DENE KE LIYE PEHLE LOGIN OR REGISTER KAREN
! MAIN BLOGS !
LEADING NEWSPAPERS DAILY NEWS IN TEXT AND CUTTINGS
SPECIAL NEWS
UPTET INFO ON FACEBOOK
PERSONAL INFORMATION
Funny Words
LIVE NEW NEWS
SUPREME COURT AND HIGH COURT CASE DETAILS
CERTIFICATE VERIFICATION
OTHERS USEFUL LINK AND WEBSITES
UPTET GUNANK MERIT SURVEY
DOWNLOAD TET
UPTETINFO HELP BOX/LIVE CHAT
Uptetinfo Contact US
Statistics Detail,s
» Welcome :Pathak Sir
» Last Login DHAMA JI
» Today Visitor: 459
Our Ads


Hottest Apps & Games & Wallpapers Download